Sk News Agency- Delhiब्रेकिंग न्यूज़राजनीतिविशेष

राज्यसभा से आप सांसद संजय सिंह को किया गया निलंबित।

मानसून सत्र के तीसरे दिन संजय सिंह को किया गया निलंबित।

sk News Agency- New Delhi 

नई दिल्ली–   (ब्यूरो डेस्क)

आम आदमी पार्टी  के राज्यसभा सांसद और उत्तर प्रदेश के प्रभारी संजय सिंह को आज मानसून सत्र के तीसरे दिन राज्यसभा से निलंबित कर दिया गया।और यह निलंबन राज्यसभा के सभापति एवं उपराष्ट्रपति जगदीप धनखर के द्वारा पूरे फैशन के लिए निलंबित किया गया है।संजय सिंह संसद के उच्च सदन में विपक्षी दलों के साथ मणिपुर मुद्दे को लेकर प्रदर्शन कर रही थे।आपको बता दें कि कर्नाटक के बेंगलुरु की बैठक के बाद 26 विपक्षी पार्टियों का यह पहला यूनिटी टेस्ट है।और इस टेस्ट से यह मालूम पड़ जाएगा विपक्षी दलों के “इंडिया’ में शामिल कांग्रेस सहित 26 दल हैं। और देखना यह होगा कि है सभी दलों के सांसद संजय सिंह के लिए कितना विरोध करते हैं।बेंगलुरु की बैठक के पहले से ही विपक्षी गठबंधन में कांग्रेस और आपके बीच खास खींचतान चल रही थी।हालांकि बैठक से 48 घंटे पहले कांग्रेस ने दिल्ली सरकार को लेकर केंद्र सरकार द्वारा लाए गए अध्यादेश का विरोध करने की बात कही। और अपने विश्वास में लिया था ।तो दोनों दलों के बीच की दूरियां कम होती दिखाई दी थी। और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने भी कह दिया था कि बेंगलुरु की बैठक में शामिल होंगे और हो भी गए थे।आपको बता दें कि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की तालमेल अन्य पार्टियों से तो  सही बैठ गई थी। मगर आम आदमी पार्टी से नहीं बैठ रही थी। क्योंकि आम आदमी पार्टी को राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा मिल चुका है ।और ऐसे में कांग्रेस द्वारा आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल को हल्के में नहीं लिया जा सकता था।आपको बता दें कि संसद के उच्च सदन राज्यसभा में जब सदन की कार्यवाही विद्वत रूप से चल रही थी। और सांसद सवाल-जवाब कर रही थे। तभी आप सांसद संजय सिंह सभापति जगदीप धनखड़ की कुर्सी के सामने आकर जोर-जोर से बोलने लगे। तो सदन के सभापति ने  पर उन्हें सीट पर बैठने के लिए कहा पर वह नहीं  माने। तो इसी बीच राज्यसभा में सदन के नेता पियष गोयल ने संजय सिंह की इस हरकत को सही नहीं माना।उन्होंने कहा कि सदन के नियमों के खिलाफ है मैं सदन की शक्ति महोदय से अपील करता हूं कि भी संजय सिंह के खिलाफ कार्रवाई करें ।उन्होंने कहा सरकार संजय सिंह के सस्पेंशन के लिए प्रस्ताव लाती है। कि उन्हें पूरे मानसून सत्र के लिए सस्पेंड किया जाए।इस पर सभापति ने कहा कि आप प्रस्ताव लाइए कार्रवाई होगी।प्रस्ताव लाने पर सभापति जगदीप धनखड़ ने संजय सिंह को आसन के खिलाफ लगातार नियमों का उल्लंघन करने के लिए मानसून सत्र के बाकी बचे अवधि के लिए भी सस्पेंड  कर दिया।उन्होंने पूछा क्या सदन इस प्रस्ताव उसी का करता है? इस पर सत्ताधारी पार्टी के सांसदों ने कहा और ध्वनि मती से यह प्रस्ताव पारित भी हो गया।

अगर भारतीय जनता पार्टी की चले तो संजय सिंह को जेल में डाल दे मगर संजय सिंह संसद में विपक्ष की आवाज को बुलंद करते हैं पर नारा लगाते हो पूरा विपक्ष एकजुट हो जाता है जाहिर सी बात है कि संजय सिंह  सत्ता पक्ष की आंखों में चुभते हैं। इसलिए भी पूरी तरह से कोशिश कर रहे हैं कि संजय सिंह की आवाज किसी तरह बंद की जाए लेकिन हथकंडा जैसे सीबीआई ईडी के दुरुपयोग से जो भी कर लें भारतीय जनता पार्टी की वापसी मुश्किल है सच की आवाज उठाते हुए अगर संजय सिंह निलंबित भी होंगे तो कोई हमें दुख नहीं होगा। -सौरभ भारद्वाज आम आदमी पार्टी सरकार में मंत्री

इसी तरह विपक्षी  नेताओं के द्वारा यह निलंबन लोकतंत्र के लिए अच्छा नहीं बताया गया।विपक्ष की नेताओं द्वारा इस निलंबन का पुरजोर विरोध किया गया है। और सरकार की तानाशाही करार दिया है।

आपको बता दें कि आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह विपक्ष में रहकर किस तरीके से विरोध किया जाता है। और विपक्षी नेताओं के क्या दायित्व होते हैं। वह उन्होंने  अपनी आवाज रखकर संसद में दिखा दिया था।

आप आने वाले लोकसभा चुनाव में किसको वोट करेंगे?

आप आने वाले लोकसभा चुनाव में किसको वोट करेंगे?

Related Articles

Back to top button