Sk News Agency-UPब्रेकिंग न्यूज़राजनीतिराज्यलखनऊविशेष

पूर्व डीजीपी की पुत्री को उपहार स्वरूप मिले मकान की जांच होनी चाहिए: अधिकार सेना

10 करोड़ कीमत की कीमत वाले मकान की जांच कराने के लिए मुख्यमंत्री को लिखा पत्र।

Sk News Agency-uttar Pradesh

जनपद- लखनऊ      23जून 2023

उत्तर प्रदेश पुलिस के पूर्व डीजीपी देवेंद्र सिंह चौहान की पुत्री अंशुला चौहान को नोएडा में लगभग 10 करोड़ की कीमत बाला एक मकान उपहार स्वरूप में दिए जाने की   अधिकार सेना ने जांच की मांग की है।इस संबंध में अधिकार सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व आईपीएस अधिकारी अमिताभ ठाकुर ने आईएएस अफसर राधा एस चौहान पूर्व डीजीपी देवेंद्र चौहान की पुत्री अंशुला चौहान को नोएडा में रिकॉर्ड के अनुसार ललित एंड कंपनी के मालिक स्वर्गीय राजेंद्र मोहन की पत्नी अरुणा मोहन के द्वारा अंशुला चौहान को नोएडा के सेक्टर 15A में 200 वर्ग मीटर एरिया का 350 वर्ग मीटर निर्मित मकान नंबर 109 गिफ्ट में दिया गया है।संपत्ति के ट्रांसफर के लिए 23 सितंबर 2021 को प्रार्थना पत्र प्रस्तुत किया गया ।इस पर नोएडा प्राधिकरण ने  तुरंत कार्रवाई करते हुए 26 नवंबर 2021 को इस ट्रांसफर प्रार्थना पत्र को स्वीकृत कर लिया।राष्ट्रीय अध्यक्ष अमिताभ ठाकुर ने कहा कि मिली जानकारी के अनुसार अरुणा मोहन का राधा चौहान देवेंद्र चौहान तथा अंशुला चौहान से किसी प्रकार का कोई खून का या पारिवारिक रिश्ता नहीं है।उनका कहना है कि वरिष्ठ और ताकतवर पदों पर बैठे अफसरों की बेटी को इस प्रकार बिना अलग संबंध की किसी अन्य व्यक्ति द्वारा इतना मकान महंगा गिफ्ट में दिए जाने की बात प्रथम दृष्टया गहन जांच की मांग करती है।इस पूरी मामले की जांच कराने के लिए अधिकार सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष अभिताभ ठाकुर ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से पत्र भेजकर जांच कराए जाने की मांग की है।आपको बताते चलें कि पूर्व डीजीपी देवेंद्र सिंह चौहान को सभी नियमों को ताक पर रखकर उनको प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा डीजीपी बनाया गया था। और उनकी चर्चा होती थी कि वह बहुत ईमानदार अधिकारी हैं ।आपको बता दें कि अमिताभ ठाकुर भी एक आईपीएस अधिकारी हैं , जिनको प्रदेश सरकार द्वारा जबरिया रिटायर कर दिया गया है। और अब वह अधिकार सेना नाम से अपनी पार्टी बना कर प्रदेश की खामियों को उजागर कर रहे हैं।और सरकार द्वारा भ्रष्टाचार मुक्त शासन की पोल खोलते रहते हैं।आपको बता दें कि अमिताभ ठाकुर ने हमेशा पद पर रहते हुए भ्रष्टाचार और अन्याय का विरोध किया। और उन्होंने कई मुख्यमंत्रियों से पंगा मोल लिया था ।कभी किसी के दबाव प्रभाव में काम नहीं किया। जबकि प्रदेश में अधिकतर अधिकारी सरकार के दबाव प्रभाव में काम कर रहे हैं। और झूठी वाहवाही लूट रहे हैं। मगर अमिताभ ठाकुर ने पर रहते हुए ऐसा नहीं किया।

[democracy id="1"]

Related Articles

Back to top button