Sk News Agency-UPउत्तरप्रदेशग्रामीण समस्याजनसमस्याब्रेकिंग न्यूज़राजनीतिराज्यलखनऊसराहनीय कार्य

पुलिस महानिदेशक निदेशक के निर्देश ,यह पुलिस कर्मी रहेगे चुनाव ड्यूटी से बाहर।

मानसिक रूप से परेशान, बीमार एवं तनावग्रस्त तथा नशेड़ी पुलिस कर्मियों को नहीं दिए जाएंगे शास्त्र।

Sk News Agency-UP

लखनऊ 

ब्यूरो डेस्क—————————-प्रदेशके पुलिस महानिदेशक प्रशांत कुमार ने निर्देश जारी किए हैं।जनपदों के पुलिस अधीक्षकों को दिए गए निर्देश में स्पष्ट रूप से बताया गया है कि  मानसिक रूप से परेशान, बीमार एवं नशेड़ी एवं अयोग्य पुलिस कर्मियों को शस्त्र देकर चुनाव ड्यूटी में ना लगाया जाए।ऐसे पुलिस कर्मियों को चुनाव ड्यूटी से अलग रखा जए।पुलिस महानिदेशक ने कहा है कि गार्ड या एस्कॉर्ट की ड्यूटी संवेदनशील ड्यूटी होती है।लेकिन देखा गया है कि अधिकांश पुलिस अधिकारी इस पर ध्यान नहीं देते हैं, और पुलिस कर्मियों की ड्यूटी एक रूटीन प्रक्रिया के तहत लगा दी जाती है।लेकिन जब संवेदनशील इलाकों में पुलिस कर्मियों से कोई अप्रिय घटना हो जाती है तो पुलिस की छवि धूमिल होती है। और रक्षक से भक्षक हो जाने से आम जनता में पुलिस के प्रति असुरक्षा की भावना पैदा हो जाती है।उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए बताया है कि मानसिकरूप से परेशान, बीमार ,तनाव ग्रस्त , एवं नशे के आदि पुलिस कर्मियों को शस्त्र  उपलब्ध न कराई जाएं।

उत्तर प्रदेश पुलिस महानिदेशक– प्रशांत कुमार—Sk News Agency

पुलिस महानिदेशक की ओर से निर्देश जारी किए गए हैं कि राजपत्रित अधिकारी इस बात का विशेष ध्यान रखें कि शस्त्र ड्यूटी उन्हीं कर्मचारियों की लगाई जाए ।जो मानसिक रूप से स्वस्थ एवं जिम्मेदार हैं, जो कर्मचारी लापरवाह और तनाव ग्रस्त प्रतीत होंगे उन्हें शस्त्र ड्यूटी पर कदापि न  लगाया जाए।ज्ञात रहे कि पिछले दिनों वाराणसी व उससे पहले भी कई ऐसी घटनाएं देखने को मिली है जब तनाव  से ग्रसित पुलिस कर्मचारीयों द्वारा आम जनता जनार्दन को ड्यूटी के दौरान नुकसान पहुंचाया गया है।उन्होंने कहा कि ऐसे में इस बात का विशेष ख्याल रखा जाए कि वाराणसी जैसी घटनाएं दोबारा ना होने पाए।पुलिस महानिदेशक ने स्पष्ट कहां ह कि याद नशेड़ी पुलिस कर्मियों की ड्यूटी एस्कॉर्ट या महत्वपूर्ण  स्थान पर लगाई गई तो डिप्टी एसपी  व आर आई जिम्मेदार होंगेउन्होंने आगे कहा है कि यदि कोई पुलिस कर्मिक अस्वस्थ या अन्य कारणो से परेशान है तो उसे ड्यूटी से हटाकर उसकी समस्या का निराकरणकराया जाए।

[democracy id="1"]

Related Articles

Back to top button