Sk News Agency-Haryanaनई दिल्लीब्रेकिंग न्यूज़सराहनीय कार्य

दुआंश गर्ग ने बनाया विश्व रिकॉर्ड महज, 4 महीने की उम्र में विश्व का सरकारी दस्तावेज धारक

मात्र 4 माह की उम्र में रिकॉर्ड 12 से ज्यादा सरकारी दस्तावेज हैं दुआंश के पास।

Sk News Agency-Haryana

SK News Agency-सदैव आपके मोबाइल पर

जनपद—-फरीदाबाद (बल्लभगढ़)

आजकल जमाना तकनीकी  हो गया है जो इस तकनीक को नहीं समझता है वह सरकारी योजनाओं से वंचित रह जाता है। और हमको भी इसी तकनीकी दुनिया में अपने आपको ढालना पड़ेगा क्योंकि अब हर चीज का डिजिटलाइजेशन हो चुका है।मगर जो चीज आज तक नहीं बदली है वह है- हमारा सरकारी दस्तावेज, हमारे सरकारी दस्तावेज उतने ही महत्वपूर्ण हैं जितना कि हमेशा से थे। और इस जमाने में क्रिटिकल और होते जा रहे हैं।और दुनिया के इस  डिजिटल जमाने को समझा है, वो हैं  हरियाणा राज्य के फरीदाबाद जनपद के बल्लभगढ़ के निवासी नितिन अग्रवाल।जिन्होंने अपने पुत्र दुआंश गर्ग जो कि मात्र पांच माह का है ,उन्होंने अपने इस पुत्र के सभी सरकारी दस्तावेज जिसमें जन्म प्रमाण पत्र ,आधार कार्ड, सरकारी टीकाकरण कार्ड, पैन कार्ड, मेडिक्लेम आधार कार्ड, आयुष्मान भारत (स्वास्थ्य खाता), आधार कार्ड, बैंक खाता, पीपीएफ खाता, किसान विकास पत्र, परिवार पहचान पत्र, एलआईसी बीमा, आवर्ती जमा है। और सभी यह सभी दस्तावेज आधार कार्ड से लिंक हैं।

 

जिन दस्तावेजों को तैयार करने के लिए एक लंबी प्रक्रिया से गुजरना होता है, और समय  भी अधिक लगता है ।मगर दुआंश गर्ग  के माता पिता जो कि देश के शिक्षित और सजग नागरिक हैं। इन्होंने रिकॉर्ड समय रहते यह प्रक्रिया शुरू करा दी थी। और अपने होनहार पुत्र के नाम विश्व रिकॉर्ड बनाने में  कीर्तिमान स्थापित कर दिया।जब इस अनोखे रिकार्ड की सूचना इंडिया’स वर्ल्ड रिकॉर्ड (आई डब्ल्यू आर) और गोल्डन बुक ऑफ रिकॉर्ड  ने ऐसे अतुलनीय कार्य की भुरु प्रशंसा की। और दुआंश गर्ग के नाम जन्म के बाद सबसे जल्दी रिकॉर्ड  समय में  मान्य   सरकारी दस्तावेज रखने रिकार्ड दर्ज किया।यह कीर्तिमान एक  फरवरी 2023 को महज 4 महीने की उम्र में 10 सरकारी दस्तावेज रखने का रिकॉर्ड दर्ज किया था। आज दुआंश  5 महीने से अधिक का हो गया है। और  14 सरकारी दस्तावेजों का धारक बन गया है। आपको बताते चलें कि दुआंश गर्ग की मां श्रीमती पूजा अग्रवाल एक घरेलू महिला हैं, और पिता श्री नितिन अग्रवाल जो कि ऊर्जा दक्षता ब्यूरो, भारत सरकार नयी दिल्ली में लेखा सहायक के पद पर कार्यरत हैं। उनका कहना है कि अब वो अपने बच्चे को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के लिए तैयार हैं, और जल्दी ही वहां भी आवेदन कर दिया जाएगा।

रिपोर्ट——स्वयं द्वारा उपलब्ध कराए गए दस्तावेजों के आधार पर।

[democracy id="1"]

Related Articles

Back to top button