नई दिल्लीब्रेकिंग न्यूज़
Trending

जल्लाद प्रेमी ने खौफनाक तरीके से दी अपनी गर्लफ्रेंड को मौत :

प्यार में अंधी हुई लड़की को मोहब्बत की ऐसी दर्दनाक हत्या मिलेगी शायद कभी सपने में भी नहीं सोचा होगा। हत्यारे प्रेमी ने अपनी गर्लफ्रेंड को इतनी दरिंदगी से कत्ल किया कि एक बार तो शैतान की भी रुह कांप उठेगी।

आईए जानते हैं सबकुछ विस्तार से :
अपने परिवार के विरोध से श्रद्धा अपने प्रेमी आफताब के संग लिव इन रिलेशनशिप में रहती थी। श्रद्धा के द्वारा शादी का दबाव बनाए जाने पर आफताब ने रची उसकी हत्या की योजना बनाई थी।

दिल्ली पुलिस ने सोमवार को दिल दहलाने वाले हत्याकांड का खुलासा :

18 मई यानी करीब 6 महीने पहले लिव इन रिलेशनशिप पार्टनर आफताब ने अपनी 26 वर्षीय प्रेमिका श्रद्धा की बेरहमी से कत्ल कर दिया था। उसने डेड बॉडी की बदबू न आए इसलिए वो नया फ्रिज लाया जिसमें उसने श्रद्धा के शरीर के टुकड़े रखें थे। इसके अलावा बदबू को दबाने के लिए अगरबत्ती जलाता रहा। आफताब 18 दिनों तक रोज़ रात 2 बजे उठता था और शव के टुकड़े जंगल में फेंक जाता रहा। पुलिस ने उसे शनिवार को गिरफ्तार किया था। कोर्ट ने उसे 5 दिन की पुलिस कस्टडी में भेज दिया है।
पूरे मामले पर विभिन्न सूत्रों ने पुलिस अधिकारी को बताया कि आफताब ने इस जघन्यतम वारदात से पहले अमेरिकी क्राइम शो डेक्सटर समेत कई क्राइम मुवीज़ और शोज देखें थे। इसके बाद उसने श्रद्धा के कत्ल किया और आरी से काटकर शव के 35 टुकड़ों को ठिकाने लगाने की योजना को अंजाम दिया। आफताब ने सबूत मिटाने के लिए गूगल पर खून साफ करने का तरीका भी सर्च किया था।

अब इस पूरे घटनाक्रम का सिलसिलेवार ब्यौरा :

कौन थी श्रद्धा ?
26 साल की श्रद्धा मुंबई की मलाड की रहने वाली थी और एक मल्टीनेशनल कंपनी में कार्यरत थी।

आफताब कौन था ?

आफताब अमीन फूड ब्लागर है। इंस्टाग्राम पर उसका पर्सनल अकाउंट “द हंगरी छोकरी” के नाम से है, जबकि उसका फूड ब्लॉग इंस्टाग्राम पर “हंगरी छोकरी एसकैपेड्स”नाम से है।

 

 

श्रद्धा और आफताब कब और कैसे मिले ?

वर्ष 2019 में मुंबई के एक काॅल सेंटर में काम करने के दौरान श्रद्धा और आफताब की मुलाकात हुई थी। दोनों एक डेटिंग ऐप के जरिए मिले थे। उनके रिश्ते से उनके परिवार वाले बहुत नाराज़ थे। इसी वजह से दोनों मुंबई से दिल्ली शिफ्ट हुए थे और महरौली के एक फ्लैट में लिव इन रिलेशन में रहते थे।

जब पिता श्रद्धा के संपर्क में नहीं थे तो उन्हें शक कैसे हुआ ?

दरअसल श्रद्धा अपने क्लासमेट लक्ष्मण से संपर्क में थी। लक्ष्मण ही श्रद्धा के पिता को विकास मदन वाॅकर को जानकारी देता था। जब श्रद्धा ने काफी दिनों तक उसका फोन रिसीव नहीं किया तब उसने श्रद्धा के पिता को इसकी जानकारी दी। इसपर उसके पिता ने बताया कि सोशल मीडिया पर भी श्रद्धा का कोई अपडेट नहीं मिल रहा है। श्रद्धा के पिता श्रद्धा का हालचाल जानने 8 नवंबर को दिल्ली पहुंचे। जब वह उसके घर पहुंचे तो घर में ताला लगा हुआ मिला। इसपर उन्होंने महरौली पुलिस स्टेशन में श्रद्धा के अगवा होने की शिकायत की थी।

क्या श्रद्धा ने अपने हालात के बारे में परिवार को कुछ बताया था ?
कुछ रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि श्रद्धा ने अपनी मां से फोन पर कहा था कि आफताब उसके साथ आए दिन मारपीट करता है। श्रद्धा की मां की मौत के बाद वह अपने घर आई थी तब उसने अपने पिता से भी मारपीट की बात कही थी।
श्रद्धा का कत्ल कब किया गया ?

साउथ दिल्ली के डीसीपी अंकित चौहान ने बताया कि 18 मई को झगड़े के बाद आफताब ने गला दबाकर श्रद्धा की हत्या कर दी थी। इसके बाद श्रद्धा के शव को आरी से काटकर उसके टुकड़ों को फ्रिज में रख दिया था।

जंगल में मिले टुकड़ों पर पुलिस का कहना :
दिल्ली पुलिस के मुताबिक आफताब की निशानदेही पर हमें जंगल में कुछ टुकड़े मिले हैं लेकिन यह टुकड़े श्रद्धा के शव के ही हैं इसपर अभी कुछ नहीं कहा जा सकता हो सकता है ये टुकड़े किसी जानवर के भी हो सकते हैं। यह सब विधिवत जांच के बाद ही पता चल सकेगा। जब मीडिया ने पुलिस से पूछा कि क्या लव जिहाद के एंगल से भी जांच की जाएगी इसपर पुलिस ने कहा कि अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी।
आज पुलिस आफताब को जंगल लेकर गई थी करीब 3 घंटे तक पुलिस वहां खोजबीन करती रही।

 

 

 

कुलदीप मिश्र
राज्य ब्यूरो प्रमुख
उत्तर प्रदेश

[democracy id="1"]

Related Articles

Back to top button