Sk News Agency-UPजनसमस्याब्रेकिंग न्यूज़राजनीति

क्या अब ब्रजभूषण पर बीजेपी लेगी एक्शन, इन दो बातों से मिली संकेत।

भाजपा के शीर्ष नेतृत्व में अनावश्यक बयानबाजी से बचने की हिदायत।

Sk NewsAgency-UP

Sk News Agency सदैव आपके मोबाइल पर

( ब्यूरो डेस्क)उत्तर प्रदेश की कैसरगंज लोकसभा क्षेत्र के सांसद एवं भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह पिछले काफी दिनों से मीडिया की सुर्खियां बनकर भारतीय जनता पार्टी की किरकिरी करा रहे हैं।उन पर महिला  पहलवानों के द्वारा कथित यौन शोषण का आरोप लगाया गया है।और बच्चियां काफी दिनों तक जंतर मंतर पर अपने अधिकारों की लड़ाई लड़ती नहीं। लेकिन बृजभूषण पर कोई कार्यवाही नहीं हुई।और अब खाप पंचायतों के अलावा विपक्षी राजनीतिक दलों द्वारा समर्थन दिया जा रहा है इसी को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी कोई रिस्क नहीं लेना चाहती है।इसी को लेकर भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेतृत्व ने बृजभूषण शरण सिंह को अनावश्यक बयानबाजी से बचने की सख्त हिदायत दी है।तू भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष ब्रिज भूषण शरण सिंह ने 5 जून को अयोध्या की सरयू तट पर जनचेतना रैली का आयोजन का ऐलान किया था। उसको भी उन्होंने तत्काल प्रभाव से रद्द कर दिया है।इस रैली में 5 जून को बृजभूषण शरण सिंह के  में समर्थन में 10 से 11लाख लोगों की भीड़ जुटाने की संभावना जताई जा रही थी।बृजभूषण शरण सिंह ने आज शुक्रवार को फेसबुक के माध्यम से इस रैली को रद्द करने की घोषणा की है। इस रैली को उन्होंने को रद्द किया है जब अयोध्या के जिला प्रशासन ने धारा 144 का हवाला और विश्व पर्यावरण दिवस का हवाला देते हुए रैली को मंजूरी देने से ही इनकार कर दिया था।बृजभूषण सिंह ने फेसबुक पोस्ट पर लिखा है कि आपके समर्थन के साथ पिछले 28 वर्षों से लोकसभा के सदस्य के रूप में सेवा की है। मैंने सत्ता और विपक्ष में रहते हुए सभी जातियों, समुदायों और धर्मों के लोगों को एकजुट करने का प्रयास किया है।नहीं कारणों से मेरे राजनीतिक विरोधियों और उनकी पार्टियों ने मुझ पर झूठे आरोप लगाए हैं।उन्होंने आगे लिखा है कि वर्तमान स्थिति में कुछ राजनीतिक दल विभिन्न स्थानों पर रेलियां कर प्रांतवाद,  क्षेत्रवाद और जातीय संघर्ष को बढ़ावा देकर सामाजिक समरसता को भंग करने का प्रयास कर रहे हैं।उद्देश्य यह है कि 5 जून को अयोध्या में एक संत सम्मेलन आयोजित करने का निर्णय लिया गया ताकि पूरे समाज में फैल रही बुराई पर विचार किया जा सके। लेकिन जबकि पुलिस आरोपों की जांच कर रही है। और सुप्रीम कोर्ट के गंभीर निर्देशों का सम्मान करते हुए “जनचेतना महारैली 5 जून ,अयोध्या चलो” कार्यक्रम कुछ दिनों के लिए स्थगित कर दिया गया है।

 

आप आने वाले लोकसभा चुनाव में किसको वोट करेंगे?

आप आने वाले लोकसभा चुनाव में किसको वोट करेंगे?

Related Articles

Back to top button