Sk News Agency-Haryanaजनसमस्याब्रेकिंग न्यूज़राजनीतिराज्य

कुरुक्षेत्र में किसानों ने नेशनल हाईवे पर लगाया जाम।

सूरजमुखी के बीज के लिए एमएसपी की मांग को लेकर हाइवे पर बैठे किसान।

SNewAgency-Haryana

न्यूज़ एजेंसी-नेटवर्क 12जून-2023

हरियाणा राज्य की कुरुक्षेत्र में एक बार किसान फिर सड़कों पर उतर आए हैं। सूरजमुखी के बीज के लिए एमएसपी की मांग को लेकर आज सोमवार को कुरुक्षेत्र में महापंचायत करने के बाद किसानों ने चंडीगढ़ दिल्ली नेशनल हाईवे पर जाम लगा दिया है।इस दौरान भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कहना है कि हमने हाईवे जाम नहीं किया है हम तो केवल यहां पर बैठे हैं। नेशनल हाईवे जाम करना अच्छी बात नहीं है और हम इसका समर्थन भी नहीं करते।टिकट ने कहा हमारी केवल 2 मांगे हैं जो सरकार को माननी चाहिए।उन्होंने कहा कि हमारी पहली मांग है कि हमारे हिरासत में लिए गए किसानों को तत्काल रिहा किया जाए। और एमएसपी पर सूरजमुखी के बीज को सरकार खरीदना शुरू कर दे।उन्होंने कहा कि हम सरकार से बातचीत करने को तैयार हैं। हम अपनी मांगे मांने जाने तक हाईवे को बंद रखेंगे । उन्होंने सभी प्रदेशों की इकाई को अग्रिम सूचना तक कुरुक्षेत्र पर नजर बनाए रखने की अपील की।उन्होंने कहा कि अगले आदेश का इंतजार करें सरकार की दमनकारी नीतीश का अन्नदाता किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं करेगा।आपको बताते चलें कि इससे पहले बीते मंगलवार को भी किसान  कुरुक्षेत्र में चंडीगढ़ -दिल्ली नेशनल हाईवे को जाम कर चुके हैं।इस जाम के दौरान किसानों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने वाटर कैनन  का इस्तेमाल किया था वह किसानों पर लाठीचार्ज भी किया था।इस प्रदर्शन के दौरान भारतीय किसान यूनियन चिरॉनी के राष्ट्रीय अध्यक्ष गुरनाम सिंह चन्नी समेत कई किसानों को गिरफ्तार किया था। जिन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था। प्रदर्शन कर रहे किसानों का कहना है कि  सरकार एमएसपी पर सूरजमुखी के बीच की खरीद नहीं कर रही है।इस वजह से किसानों को अपनी उपज निजी खरीदारों को ₹6400 एमएसपी के मुकाबले लगभग ₹4000 प्रति कुंतल के दाम पर मजबूरन बेचना पड़ रहा है।इस दौरान किसानों ने कहा कि जब तक एमएसपी पर सूरजमुखी नहीं बिकती तब तक हम लोग ऐसे ही हाईवे जाम कर के बैठे रहेंगे। गुरनाम चढ़ूनी के साथ कई किसानों को गिरफ्तार किया गया है। जब तक वह सभी रिहा नहीं होते तब तक हम यहीं बैठे रहेंगे।उन्होंने कहा कि हमें 13 महीने बैठने का अभ्यास है।हम अपनी मांगों को लेकर ऐसे ही यहां बैठे रहेंगे, हमारी पूरी तैयारी है। गुरुद्वारे से हमारा लंगर साथ चलता है हमारा खाने पीने का पूरा इंतजाम साथ है।

कुछ लोग राजनीतिक लाभ के लिए इन मुद्दों (पहलवानों के धरने का मुद्दे )को पुनर्जीवित करने की कोशिश कर रहे हैं। केंद्र लगातार एक समाधान खोजने की कोशिश कर रहा है ।बंद करने से पहले बातचीत का रास्ता खुला है। अपनी मांग को लेकर किसान कुरुक्षेत्र में महापंचायत आयोजित करने के लिए एकत्रित हुए थे।किसानों ने महापंचायत खत्म होने के बाद  दिल्ली -मुल्तान रोड को जाम कर दिया। सड़क के दोनों तरफ ट्रैक्टर लगाकर किसान यही बैठ गए हैं।(मनोहर लाल खट्टर मुख्यमंत्री हरियाणा)

 

 

 

आप आने वाले लोकसभा चुनाव में किसको वोट करेंगे?

आप आने वाले लोकसभा चुनाव में किसको वोट करेंगे?

Related Articles

Back to top button